एक सफल व्यक्ति के जीवन में कितना महत्वपूर्ण है अनुशासन

तो हेलो दोस्तों कैसे हैं आप लोग दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं डिसिप्लिन के बारे में। दोस्तों अनुशासन हमारे जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दोस्तों से नहीं रहेंगे तो हम कुछ भी काम सही नहीं कर सकते दोस्त आपने देखा होगा हर जगह पर कहीं ना कहीं बोर्ड लगे होते हैं कि कीप डिसिप्लिन दोस्तों उनका मतलब होता है किड्स टिफिन बना कर रखिए क्योंकि दोस्तों जो बंदे डिस्प्ले नहीं बनाकर रखते वह अपना अपमान करते हैं साथ में जो लोग वहां बैठे होते हैं उनका भी अपमान होता है इसलिए डिसिप्लिन बहुत महत्वपूर्ण है हमारे जीवन में दोस्तों अनुशासन का जीवन में एक बहुत ही जरूरी महत्व है। दोस्तों दोस्तों हमारी पूरी प्रकृति अनुशासन से ही चलती है अगर अनुशासन नहीं होगा तो सब कुछ उथल पुथल हो जाएगा और कुछ भी सही नहीं होगा इसे दोस्तों अनुशासन बहुत ज्यादा अहमियत है सिर्फ हमारे जीवन में ही नहीं हमारे पूरे देश में ही नहीं बल्कि हमारी पूरी दुनिया में अनुशासन होना चाहिए हर जगह पर दोस्त छोटी सी छोटी जगह पर अनुशासन होना चाहिए जिससे वह काम सही से हो सके।

दोस्तों किसी बजे होता है तो वह काम बड़ी ही चतुराई से कोई भी पूरा कर सकता है इसलिए तो कहते हैं। अनुशासन ही सफलता की चाबी है दोस्तो अगर हमारी जिंदगी में अनुशासन है तो हम बहुत कुछ कर सकते हैं। दोस्तों स्कूल में जो विद्यार्थी पढ़ते हैं उनके लिए भी का बहुत महत्वपूर्ण है जो स्कूल में बच्चों को वह ज्यादा अनुशासन सिखाया जाता है क्योंकि स्कूल भी जानता है कि अगर बच्चे अनुशासन से रहेंगे बच्चों को कंट्रोल कर पाएंगे। इसलिए दोस्तों कहा जाता है कि अनुशासन आपको जीवन में सफलता का रास्ता दिखाएगा। जो स्कूल में सभी बच्चों को अनुशासन से रहने के लिए कहा जाता है और अगर कोई रूल तोड़ते हैं तो उनको सजा भी मिलती है अच्छी बात है।

दोस्तों अगर कोई बच्चा अनुशासन से रहता है तो टीचर उससे खुश हो जाते हैं और उनको एक्स्ट्रा मार्क्स भी देते हैं क्योंकि दोस्तों डिसिप्लिन के अलग से मार्क्स होते हैं स्कूल में जो काफी अच्छी बात है इससे बच्चे अनुशासन में रहते हैं। दोस्त बच्चे क्लास में किस तरीके से बैठ रहा है क्या काम कर रहा है उस बात के मार्क्स होते हैं उसे कहते हैं डिसिप्लिनऔर दोस्ती बहुत ही अच्छी बात है कि स्कूल में डिसिप्लिन के भी माफ कीजिए जाते हैं। जिससे बच्चा कुछ मार्क्स के लिए डिसिप्लिन में रहता है और उसकी आदत भी अच्छी हो जाती है। दोस्तों जब कोई बच्चा जन्म लेता है तो वह सबसे पहले अपने माता पिता को देखता है। दोस्तों अगर बच्चे के माता-पिता बच्चे को अनुशासन नहीं सिखाएंगे तो बच्चा जीवन में अच्छे काम नहीं कर पाएगा इसलिए दोस्तों कहा जाता है जैसी संगति होती है।

वैसे ही बच्चे को संगति मिलती है अगर बच्चे के मां-बाप डिसिप्लिन में रहते हैं और बच्चे को डिस्प्रिन सिखाते हैं तो बच्चे बहुत अच्छा हो सकता है और सबसे अच्छे से बात करेगा नाम करेगा इससे सभी उसकी तारीफ करेंगे और उसको अपना आशीर्वाद देंगेजिससे बहुत अच्छी तरीके से डेवलप होगा और यह सर पर भी अच्छा है कि कई बच्चा शुरुआत से डिसिप्लिन में है तो वह जाकर बीटीसी बिन नहीं रहेगा वह कभी किसी पर नहीं तोड़ेगा और कभी कुछ गलत काम भी नहीं करेगी जो बच्चा देता है। वह हमेशा काम करता है इसलिए दोस्तों मैं बस उससे कह रहा हूं अनुशासन ही सफलता की चाबी है तो दोस्तों अनुशासन से हम और दूसरों को भी अनुशासन का पाठ पढ़ा है जिससे हर कोई अनुशासन में रहकरअच्छे काम करेगा दोस्तों करापन शशि में रहते हैं तो आप सिर्फ अच्छे काम करते हो और उससे आपका ही नहीं और कभी भला होता है तो दोस्तों बस एक बार निश्चय कर दीजिए कि आप सिर्फ अनुशासन से रहेंगे तो दे आपकी जिंदगी में कितने बड़े बड़े बदलाव आएंगे। आपको एक अच्छा आदमी बनने में ज्यादा टाइम नहीं लगेगा अपने देश का नाम बताइए।

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *